धर्मो रक्षति रक्षितः
रक्षित किया हुआ धर्म मनुष्य की रक्षा करता है।
:- मनुस्मृति


जब सनातन धर्म का क्षरण होता है, तब राष्ट्र का क्षरण होता है। :- महर्षि अरविन्द

बहवो यत्र नेतार:, सर्वे पण्डित मानिना:। सर्वे मह्त्व मिच्छंति, तद् राष्ट्र भव सीदति ।।

जिस राष्ट्र में नेतृ्त्व करने वाले बहुत हो जाते हैं एवं अपने को बुद्धिमान समझते हैं तथा प्रत्येक श्रेष्ठ पद की आकांक्षा रखता है, वह राष्ट्र नष्ट हो जाता है.

Sunday, December 30, 2012

चैनल शर्मिंदा है

दामिनी की चिता अभी ठण्डी भी न हुई,
हीरो ग्लैमर लेके निकले हैं, मैयत में शामिल हाकिम.
दावा करते हैं जो चैनल, समाज की पीड़ा दिखाने का,
ये वही लोग है जो, लड़कियाँ स्वाहा करते चलते हैं.

घड़ियाली आँसू चाहे जितना ये बहा लें लेकिन,
टुकड़ा मिलते ही, थूक के चाट लेते हैं.
बदलना है समाज को, तो इनको बदलना होगा,
वर्ना ये जो लोग हैं, मुर्दे का कफन बेच लेते हैं.

इन भेडियों के चक्कर में न आना कभी बहनों,
दामिनी नाम की लड़कियाँ, इनके घर पे नहीं होती.
पीड़ा तुम्हे ही होगी, बच के रहना सीखो,
जागरुक रहकर जीनें में, कोई बुराई नहीं होती.

:- अवधेश पाण्डेय

 

No comments: